Ghalib Shayari

Ghalib Shayari

Galib Shayari

Kitne shirin hai tere lab ke rakib
कितने शिरीन हैं तेरे लब के रक़ीब
Gaaliyan kha ke bemja na hua
गालियां खा के बेमज़ा न हुआ
Kuch toh padhie ki log kehte hai
कुछ तो पढ़िए की लोग कहते हैं
Aaj ghalin gajalsara na hua
आज “ग़ालिब ” गजलसारा न हुआ

Galib Shayari

Is najakat ka bura ho, wo bhale hai toh kya
इस नज़ाकत का बुरा हो , वो भले हैं तो क्या
Haath aae to unhe haath na lagae na bane
हाथ आएँ तो उन्हें हाथ लगाए न बने
Keh sake kon ke yeh jalwagiri kis ki hai
कह सके कौन के यह जलवागरी किस की है
Parda chhoda hai wo us ne ke uthae na bane
पर्दा छोड़ा है वो उस ने के उठाये न बने

Ishq mujhko nahi wehshat hi sahi.
इश्क़ मुझको नहीं वेहशत ही सही
Meri wehshat teri shohrat hi sahi
मेरी वेहशत तेरी शोहरत ही सही
kata kijie na taluk humse
कटा कीजिए न तालुक हम से
kuch nahi hai toh adaavat hi sahi
कुछ नहीं है तो अदावत ही सही


अपने खत को
Ho lie kyo namabar ke stah sath
हो लिए क्यों नामाबर के साथ -साथ
Ya rab ! apne khat ko hum pohnchaye kya
या रब ! अपने खत को हम पहुँचायें क्या


तो धोखा खायें क्या
Laag ho toh usko hum samjhe lagaav
लाग् हो तो उसको हम समझे लगाव
Jab na ho kuch bhi, toh dhoka khaye kya
जब न हो कुछ भी , तो धोखा खायें क्या

Galib Shayari


उल्फ़त ही क्यों न हो
Ulfat paida hui hai, kehte hai, har dard ki dawa
उल्फ़त पैदा हुई है , कहते हैं , हर दर्द की दवा
Yu ho toh chehra ae gam ulfat hi kyo na ho
यूं हो तो चेहरा -ऐ -गम उल्फ़त ही क्यों न हो .

Ghalib Shayari


ऐसा भी कोई
Ghalib bura na maan waij bura kahe
“ग़ालिब ” बुरा न मान जो वैज बुरा कहे
Aisa bi koi hai ke sab acha kahe jisse
ऐसा भी कोई है के सब अच्छा कहे जिसे

Ghalib Shayari

Naadan ho jo kehte ho , kyo jeetey hai ghalib
नादान हो जो कहते हो क्यों जीते हैं “ग़ालिब “
Kismat mei hai marne ki tamannah koi din or
किस्मत मैं है मरने की तमन्ना कोई दिन और

mirza ghalib shayari

Haif us char girah kapde ki kismat ghalib
हैफ़ उस चार गिरह कपड़े की किस्मत ग़ालिब
Jis ki kismat mei ho aashik ka gorbaan hona
जिस की किस्मत में हो आशिक़ का गरेबां होना

Ghalib Shayari

aaya hai mujhe bekashi ishaq pe rona ghalib
आया है मुझे बेकशी इश्क़ पे रोना ग़ालिब
Kis ka ghar jalaega sailab bhal mere baad.
किस का घर जलाएगा सैलाब भला मेरे बाद

Ghalib Shayari


Galib Shayari

Gam ae hasti ka asad kis se ho joojh marj ka ilaaj
गम -ऐ -हस्ती का असद किस से हो जूझ मर्ज इलाज
shama har rang mei jalti hai sehar hone tak
शमा हर रंग मैं जलती है सहर होने तक ..

Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari

Ghalib,hamey na ched ki fir josh-ae-ashk se
ग़ालिब , हमें न छेड़ की फिर जोश -ऐ -अश्क से
Bethe hai hum tahaiyya ae tufaan kiye hue
बैठे हैं हम तहय्या -ऐ -तूफ़ान किये हुए

Galib shayari

Pages: 1 2 3 4 5