Ghalib Shayari

Ghalib Shayari

saadgi per uske mar jane ki hasrat dil mei hai
सादगी पर उस के मर जाने की हसरत दिल में है
Bas nahi chalta ki fir khanjar kaf-ae-katil mei hai
बस नहीं चलता की फिर खंजर काफ-ऐ-क़ातिल में है
Dekhna takreer ke lajjat ki jo usne kaha
देखना तक़रीर के लज़्ज़त की जो उसने कहा
Mene yeh jana ki goya yeh bi mere dil me hai
मैंने यह जाना की गोया यह भी मेरे दिल में है

Mei nadaan tha jo wafa ko talaash kerta raha ghalib
मैं नादान था जो वफ़ा को तलाश करता रहा ग़ालिब
Yeh na soch ke ek din apni saans bi bewafa ho jaegi
यह न सोचा के एक दिन अपनी साँस भी बेवफा हो जाएगी

Todaa luch is adah se taaluk us ney ghalib
तोड़ा कुछ इस अदा से तालुक़ उस ने ग़ालिब
Ke sari umar apna kasur dhundte rahe
के सारी उम्र अपना क़सूर ढूँढ़ते रहे

Kaasid ke aate-aate khat ek or likh rakhu
क़ासिद के आते -आते खत एक और लिख रखूँ
mein jaanta hu jo wo likhenge jawab mei
मैं जानता हूँ जो वो लिखेंगे जवाब में

Meh wo kyo bahut peete bazm-ae-gair ya rab
मेह वो क्यों बहुत पीते बज़्म-ऐ-ग़ैर में या रब
aaj hi hua manjoor un ko imtihaan apna
आज ही हुआ मंज़ूर उन को इम्तिहान अपना
Manjoor ik bulandi per aur hum bna sakte ghalib
मँज़र इक बुलंदी पर और हम बना सकते “ग़ालिब”
Arsh se idhar hota kash ke makan apna
अर्श से इधर होता काश के माकन अपना

Ghalib Shayari

Bewajah nahi rota ishq mei koi ghalib
बे-वजह नहीं रोता इश्क़ में कोई ग़ालिब
jisse khud se badh ker chaho wo rulaata zarur hai!
जिसे खुद से बढ़ कर चाहो वो रूलाता ज़रूर है

Ghalib Shayari

Fir usi bewafa pe marte hai
फिर उसी बेवफा पे मरते हैं
Fir wahi zindagi hamari hai
फिर वही ज़िन्दगी हमारी है
Bekhudi besabab nahi ghalib
बेखुदी बेसबब नहीं ‘ग़ालिब’
kuch toh hai jis ki pardadari hai
कुछ तो है जिस की पर्दादारी है

Galib Shayari

Bajeecha-ae-Atfaal hai duniya mere aage
बाजीचा-ऐ-अतफाल है दुनिया मेरे आगे
hota hai shab-o-roz tamasha mere aage
होता है शब-ओ-रोज़ तमाशा मेरे आगे

Galib Shayari

Humko malum hai jannat ki haqeeqat lekin
हमको मालूम है जन्नत की हकीकत लेकिन
Dil ke khush rakhne ko “ghalib” yeh khyal acha hai
दिल के खुश रखने को “ग़ालिब” यह ख्याल अच्छा है

Sabne pehna tha bade shauk se kagaz ka libaas
सबने पहना था बड़े शौक से कागज़ का लिबास
Jis kadar log the barish mei nahane wale
जिस कदर लोग थे बारिश में नहाने वाले
Adal ke tum na hamey aas dilaao
अदल के तुम न हमे आस दिलाओ
katal hojate hai, janjeer hilane wale
क़त्ल हो जाते हैं , ज़ंज़ीर हिलाने वाले

Galib Shayari

Zara kr zor seeney per ki teer-ae-pursitam nikle jo
ज़रा कर जोर सीने पर की तीर -ऐ-पुरसितम् निकले जो
Wo nikle toh dil nikle, jo dil nikle toh dum nkle
वो निकले तो दिल निकले , जो दिल निकले तो दम निकले

Khuda ke waste parda na rukhsar se utha zaalim
खुदा के वास्ते पर्दा न रुख्सार से उठा ज़ालिम
Kahi aisa na ho jahan bhi wahi kafir sanam nikle
कहीं ऐसा न हो जहाँ भी वही काफिर सनम निकले

Teri duaao mei asar ho toh masjid ko hilake dikha
तेरी दुआओं में असर हो तो मस्जिद को हिला के दिखा
Nahi to do ghoont pee or masjid ko hilta dekh!
नहीं तो दो घूँट पी और मस्जिद को हिलता देख

Mohabbat mei nahi hai fark jeene or marne ka
मोहब्बत मैं नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का
usi ko dekh ker jeete hai jis kafir pe dum nikle
उसी को देख कर जीते है जिस काफिर पे दम निकले

Lafzon ki tarteeb mujhe baandhni nahi aati “Ghalib”
लफ़्ज़ों की तरतीब मुझे बांधनी नहीं आती “ग़ालिब”
Hum tum ko yad kerte hai seedhi si baat hai.
हम तुम को याद करते हैं सीधी सी बात है

mirza ghalib shayari

Thi khabar garam ke, ghalib ke udenge purje
थी खबर गर्म के ग़ालिब के उड़ेंगे पुर्ज़े ,
Dekhne hum bhi gae the per tamasha na hua.
देखने हम भी गए थे पर तमाशा न हुआ

mirza ghalib shayari

Dil diya jaan ke kyo usko wafadaar, asad
दिल दिया जान के क्यों उसको वफादार , असद
Galti ki ke jo kafir ko muslman samjha
ग़लती की के जो काफिर को मुस्लमान समझा

mirza ghalib shayari

Dil hai teri nigaah jigar tak utar gai
दिल से तेरी निगाह जिगर तक उतर गई
Dono ko ek adaa mei rajamand ker gai
दोनों को एक अदा में रजामंद कर गई
maara jamane ney Ghalin tum ko
मारा ज़माने ने ‘ग़ालिब’ तुम को
wo walwale kaha , wo jawani kidhar gai
वो वलवले कहाँ , वो जवानी किधर गई

Laazim tha ke mera rasta koi din or
लाज़िम था के देखे मेरा रास्ता कोई दिन और
Tanha gae kyo, ab raho tanha koi din or
तनहा गए क्यों , अब रहो तनहा कोई दिन और

Pages: 1 2 3 4 5