Ghalib Shayari

Ghalib Shayari


Khama ae ghalib
खमा -ऐ -ग़ालिब


Bahut sahi gam ae gati sharab kam kya hai
बहुत सही गम -ऐ -गति शराब कम क्या है
Gulam ae saaki ae kausar hu mujhko gam kya hai
गुलाम -ऐ-साक़ी -ऐ -कौसर हूँ मुझको गम क्या है
Tumhari tarj o ravish jante hai hum kya hai
तुम्हारी तर्ज़ -ओ -रवीश जानते हैं हम क्या है
Rakib per hai agar lutph toh sitam kya hai
रक़ीब पर है अगर लुत्फ़ तो सितम क्या है
sukh mei khama ae ghalib ki aatshfani
सुख में खमा -ऐ -ग़ालिब की आतशफशनि
yakeen hai humko bi lekin ab us mei dum kya hai
यकीन है हमको भी लेकिन अब उस में दम क्या है

Ghalib Shayari


दरो -ओ -दीवार – Mirza Galib
Raat hai sannaata hai, waha koi na hoga ghalib
रात है ,सनाटा है , वहां कोई न होगा, ग़ालिब
Chalo un ke daro-o- deewar choom ke aate hai
चलो उन के दरो -ओ -दीवार चूम के आते हैं

Kon hosh mei rehta hai tujhe dekhne ke baad
कौन होश में रहता है तुझे देखने के बाद
Tere husan ko parde ki jarurat nahi hai ghalib
तेरे हुस्न को परदे की ज़रुरत नहीं है ग़ालिब


Mirza Ghalib : Nukta Cheen


Nukta cheeni hai, gam ae dil us ko sunaae na bane
नुक्ता चीन है , गम -ऐ -दिल उस को सुनाये न बने
Kya bane baat, jaha baat banae na bane
क्या बने बात , जहाँ बात बनाये न बने

मैं बुलाता तो हूँ उस को , मगर ऐ जज़्बा -ऐ -दिल
Mei bulata toh hu us ko, magar ae jazba ae dil
उस पे बन जाये कुछ ऐसी , के बिन आये न बने
Us pe ban jae kuch aisi, ke bin aae na bane
खेल समझा है , कहीं छोड़ न दे , भूल न जाये
khel samjha hai kahi chhod na de
काश ! यूँ भी हो के बिन मेरे सताए न बने
Kash! yu bhi ho ki bin mere satae na bane
ग़ैर फिरता है लिए यूँ तेरे खत को कह अगर
Gair firta hai lie yun tere khat ko keh agar
कोई पूछे के ये क्या है , तो छुपाये न बने
Koi puche ye kya hai, toh chupae na bane
इस नज़ाकत का बुरा हो , वो भले हैं , तो किया
Is najakat ka bura ho, wo bhale hai, to kya
हाथ आएं , तो उन्हें हाथ लगाये न बने
haath aae , toh unhe haath lagaye na bane
कह सकेगा कौन , ये जलवा गारी किस की है
Keh sakega kon , ye jalwa gaari kis ki hai
पर्दा छोड़ा है वो उस ने के उठाये न बने
parda chhoda hai wo us me , ke uthaye na bane
मौत की रह न देखूं ? के बिन आये न रहे
Maut ki raah na dekhu ? ke aaye na rahe
तुम को चाहूँ ? के न आओ , तो बुलाये न बने
Tum ko chahu? Ke na aao, toh bulae na bane
इश्क़ पर ज़ोर नहीं , है ये वो आतिश ग़ालिब
Ishq per zor,nahi ye wo aatish hai ghalib
के लगाये न लगे , और बुझाए न बने
Ke lagae na lage or bujhae na bujhe

wafa ke zikar mei ghalib mujhe gumman hua
वफ़ा के ज़िक्र में ग़ालिब मुझे गुमाँ हुआ
Wo dard ishq wafaon ko kho chuka hoga
वो दर्द इश्क़ वफाओं को खो चूका होगा ,
Jo mere sath mohabbat mei had ae junoon tak tak tha
जो मेरे साथ मोहब्बत में हद -ऐ -जूनून तक था
Wo khud ko waqt ke pani ke sath dho chuka hoga
वो खुद को वक़्त के पानी से धो चूका होगा ,
meri aawaz kok jo saj kaha kerta tha
मेरी आवाज़ को जो साज़ कहा करता था
meri aahon ko yaad ker ke so chuka hoga
मेरी आहोँ को याद कर के सो चूका होगा ,
wo mera pyar talab aur chain o karaar
वो मेरा प्यार , तलब और मेरा चैन -ओ -क़रार
Zafa ki hadd mei jamane ka ho chuka hoga
जफ़ा की हद में ज़माने का हो चूका होगा ,
Tum uski raah na dekho wo gair tha saaki
तुम उसकी राह न देखो वो ग़ैर था साक़ी
bhula do usko wo gairon ka ho chuka hoga
भुला दो उसको वो ग़ैरों का हो चूका होगा !

Ghalib Shayari

Diya hai dil agar us ko, bashar hai kya kahiye
दिया है दिल अगर उस को , बशर है क्या कहिये
Hua rakib toh wo, namabar hai kya kahie
हुआ रक़ीब तो वो , नामाबर है , क्या कहिये

Yeh Zidd ki aaj na aae auraaye bin na rahe
यह ज़िद की आज न आये और आये बिन न रहे
Kaja se shikwa hamey kis kadar hai kya kahiye
काजा से शिकवा हमें किस क़दर है , क्या कहिये
Jaahe – karishma ke yun de rakha hai humko fareb
ज़ाहे -करिश्मा के यूँ दे रखा है हमको फरेब
Ki bin kahe hi unhe sab khabar hai kya kahiye
की बिन कहे ही उन्हें सब खबर है , क्या कहिये
samajh ke kerte hai bazaar mei wo pursish-ae-haal
समझ के करते हैं बाजार में वो पुर्सिश -ऐ -हाल
ki yeh kahe ki sir-ae-rehgujar hai, kya kahiye
की यह कहे की सर -ऐ -रहगुज़र है , क्या कहिये
Tumhe nahi hai sir ae rishta ae wahaka khyal
तुम्हें नहीं है सर-ऐ-रिश्ता-ऐ-वफ़ा का ख्याल
hamare hath mei kuch hai, magar hai kya kahiye.
हमारे हाथ में कुछ है , मगर है क्या कहिये
Kaha hai kis ney ki “ghalib” bura nahi lekin
कहा है किस ने की “ग़ालिब ” बुरा नहीं लेकिन
sivaae iske ki Aashuftasar hai kya kahiye
सिवाय इसके की आशुफ़्तासार है क्या कहिये

Ug raha hai dar-o-deewar pe sabja “ghalib”
उग रहा है दर-ओ -दीवार पे सब्ज़ा “ग़ालिब “
Hum bayaban mei hai or ghar mei bahar aai hai
हम बयाबान में हैं और घर में बहार आई है ..

Nikalna khud se aadam ka sunte aae hai lekin
निकलना खुद से आदम का सुनते आये हैं लकिन
Bahut beaabru ho ker tere kooche se hum nikle
बहुत बेआबरू हो कर तेरे कूचे से हम निकले

Gair le mehfil me bosey jaam ke
गैर ले महफ़िल में बोसे जाम के
hum rahe yun tanha-ae-lab paigam ke
हम रहें यूँ तश्ना-ऐ-लब पैगाम के
khat likhenge garche bematalb kuch na ho
खत लिखेंगे गरचे मतलब कुछ न हो
Hum toh aashik hai tumhare naam ke
हम तो आशिक़ हैं तुम्हारे नाम के
Ishq ne “ghalib” nikamma kr diya
इश्क़ ने “ग़ालिब” निकम्मा कर दिया
Warna hum bhi aadmi the kaam ke
वरना हम भी आदमी थे काम के

chand tasveere ae butaan , chand haseeno ke khatut
चंद तस्वीर-ऐ-बुताँ , चंद हसीनों के खतूत .
Baad marne ke mere ghar se yeh saman nikla
बाद मरने के मेरे घर से यह सामान निकला

Mei unhe chheddu or kuch na kahe
मैं उन्हें छेड़ूँ और कुछ न कहें
chal nikalte jo mei pie hote
चल निकलते जो में पिए होते
Kehar ho ya bhala ho, jo kuch ho
क़हर हो या भला हो , जो कुछ हो
kash ke tum mere lie hote
काश के तुम मेरे लिए होते
meri kismat mei gam gar itna tha
मेरी किस्मत में ग़म गर इतना था
dil bi ya rab kai die hote
दिल भी या रब कई दिए होते
AA hi jata wo raah per ghalib
आ ही जाता वो राह पर ‘ग़ालिब ’
Koi din or bi jie hote
कोई दिन और भी जिए होते

Dil-ae-gam gustakh
दिल-ऐ -ग़म गुस्ताख़
fir tere kooche ko jaata hai khyal
फिर तेरे कूचे को जाता है ख्याल
Dil-ae-gam gustakh magar yaad aaya
दिल -ऐ -ग़म गुस्ताख़ मगर याद आया
Koi veerani si veerani hai
कोई वीरानी सी वीरानी है .
Dashat ko dekh ke ghar yaad aaya
दश्त को देख के घर याद आया

Mirza Ghalib Shayari Images

Pages: 1 2 3 4 5