Ghalib Shayari

Ghalib Shayari

Mirza Ghalib Shayari

Umar bhar hum bhi galti kerte rahe Ghalib
उम्र भर हम भी गलती करते रहे ग़ालिब
Dhool chechre pe thi or hum Aaina saaf kerte rahe.
धुल चेहरे पे थी और हम आईना साफ़ करते रहे


Ghalib Shayari

Unke dekhne se jo aajaati hai chechre pe raunak
उनके देखने से जो आ जाती है चेहरे पे रौनक
Wo samajhte hai ki bimar ka haal acha hai
वो समझते है के बीमार का हाल अच्छा है


Galib Shayari

Haatho ki lakiro pe mat ja ghalib
हाथों की लकीरो पे मत जा ग़ालिब
Naseeb unke bhi hote hai jinke haath nahi hote.
नसीब उनके भी होते है जिनके हाथ नहीं होते


Ghalib Shayari

khwahisho ka kafila bhi ajeeb hi hai ghalib
ख्वाहिशों का काफिला भी अजीब ही है ग़ालिब
Aksar wahi se gujarta hai jaha rasta nahi hota
अक्सर वहीँ से गुज़रता है जहाँ रास्ता नहीं होता


Galib Shayari

Ho chuki ghalib balaye sab tamam
हो चुकी ‘ग़ालिब’ बलायें सब तमाम
koi din gair zindgaani aur hai
कोई , दिन , गैर ज़िंदगानी और है
Apne jee mei humne thani or hai
अपने जी में हमने ठानी और है .

Ghalib : Aatshe Doujakh

Aatshe doujakh mei, yeh garmi kahan
आतशे – दोज़ख में , यह गर्मी कहाँ ,
Souje guma ae nihani or hai
सोज़े -गुम्हा -ऐ -निहनी और है .

Barhan unki dekhi hai ranjishe
बारहन उनकी देखी हैं रंजिशें ,
per kuch abke sirgirani or hai
पर कुछ अबके सिरगिरांनी और है .

De ke khat muh dekhta hai namabar
दे के खत , मुहँ देखता है नामाबर ,
kuch toh paigaam e jubani or hai
कुछ तो पैगामे जुबानी और है .

Ho chuki ghalib balaye sab tamam
हो चुकी ‘ग़ालिब’, बलायें सब तमाम ,
ek Marge nihani or hai
एक मरगे -नागहानी और है .

Ghalib Kon Hai

Ghalib kon hai
‘ ग़ालिब ‘ कौन है
puchte hai wo ghalib kon hai?
पूछते हैं वो की ‘ग़ालिब ‘ कौन है ?
Koi batlao ki hum batlaye?
कोई बतलाओ की हम बतलायें ?

Ghalib Shayari

tagaful-e ghalib
तग़ाफ़ुल-ऐ-ग़ालिब
kerne gae the us se tagaful ka hum gila
करने गए थे उस से तग़ाफ़ुल का हम गिला
bas ek hi nigah , ki bas khaak hogae
बस एक ही निगाह की बस ख़ाक हो गए

Ghalib Shayari

Shab e mehtab
शब -ऐ -महताब
Ghalib chooti sharab per ab bhi kbi kbi
“ग़ालिब” छूटी शराब पर अब भी कभी कभी ,
Peeta hu roj-ae-abro, shab ae mehtab mei.
पीता हूँ रोज़ -ऐ -अबरो शब -ऐ -महताब में

Ghalib Shayari

Aarzu rahi na takat ae guftar aur agar ho bi,
आरज़ू रही न ताक़त -ऐ -गुफ्तार और अगर हो भी ,
Toh kis ummid pe kahiye ke aarzu kya hai
तो किस उम्मीद पे कहिये के आरज़ू क्या है !

Mirza Ghalib Shayari Images

Pages: 1 2 3 4 5