Ghalib Shayari

Ghalib Shayari

Mirza Ghalib was one of the famous Urdu poets. He has different point of views for Society. Lets check out some famous Mirza Ghalib shayari.


Ghalib : Wo aae hamare ghar per!

Yu toh hum hizar mei bhi deewar-o-dar ko dekhte hai
यूं तो हम हिज़र में भी दीवार -ओ -दर को देखते हैं
Kabhi saba ko kabhi namabar ko dekhte hai
कभी सबा को कभी नामाबर को देखते हैं
Wo aae ghar mei hamare Khuda ki kudrat hai
वो आये घर में हमारे खुदा की कुदरत है
kabhi hum un ko, kabhi apne ghar ko dekhte hai
कभी हम उन को कभी अपने घर को देखते हैं

Ghalib about love

Ghalib Shayari on Dard

Dard ho dil mei to daba kijiye
दर्द हो दिल में तो दबा कीजिये
Dil hi jab dard hot toh Ghalib kya kijiye.
दिल ही जब दर्द हो तो क्या कीजिये

Ghalib on Dard -ae-Dil

Ghalib Shayari : Sharab

Peene de sharab masjid mei beth ke ghalib
पीने दे शराब मस्जिद में बैठ के , ग़ालिब
Ya wo jagah bata jahan khuda nahi hai.
या वो जगह बता जहाँ खुदा नहीं है

Ghalib on sharab

Mirza Ghalib shayari : Bekarar dil

Aaj fir is dil mei bekrari hai
आज फिर इस दिल में बेक़रारी है
Seena roe jakhm-ae-kari hai
सीना रोए ज़ख्म-ऐ-कारी है
Fir hue nahi gawah-ae-ishq talab
फिर हुए नहीं गवाह-ऐ-इश्क़ तलब
Ashq bari ka hukam jaari hai
अश्क़-बारी का हुक्म ज़ारी है
Bekhuda, be sabab nahi, Ghalib
बे-खुदा , बे-सबब नहीं , ग़ालिब
kuch toh hai jiss se parda dari hai
कुछ तो है जिससे पर्दादारी है

Mirza Ghalib on Bekarar dil

Ishq ney Ghalib ko Nikamma ker dia

Ishq ne Ghalib ko nikamma ker diya
इश्क़ ने ग़ालिब निकम्मा कर दिया
Warna ghalib bi aadmi tha kaam ka.
वरना हम भी आदमी थे काम के

Ghalib on Ishq

Mirza Ghalib shayari : Dukh

Dukh dekar sawal krte ho
दुःख दे कर सवाल करते हो
Tum bhi ghalib kamal karte ho
तुम भी ग़ालिब कमल करते हो Dekh ker puch liya haal mera
देख कर पूछ लिया हाल मेरा
Chalo Ghalib kuch to khayal kerte ho
चलो कुछ तो ख्याल करते हो Sheher-ae-dil mei udaasiaan kaisi
शहर-ऐ-दिल में उदासियाँ कैसी
Yeh bi mjhse sawal kerte ho
यह भी मुझसे सवाल करते हो Marna chahe toh mar ni sakte
मारना चाहे तो मर नहीं सकते
Tum bhi jeena muhaal krte ho
तुम भी जिन मुहाल करते हो Ab kis ki misaal doo mei tum ko
अब किस किस की मिसाल दू में तुम को
Har sitam bemisaal kerte ho
हर सितम बे-मिसाल करते हो


Mirza Ghalib On Kafir Dil

Tu toh wo jaalim hai ,jo dil mei reh ker bhi mera na ban saka ghalib,
तू तो वो जालिम है जो दिल में रह कर भी मेरा न बन सका , ग़ालिब
Aur dil wo kafir, Jo mujh mei reh ker bhi tera hogya
और दिल वो काफिर, जो मुझ में रह कर भी तेरा हो गया

Mirza Ghalib : Kafir Dil

Mirza Ghalib Shayar : Boht Nikle mere Armaan

Hazaro khwahishen aisi ki har khwaish pe dum nikle
हजारों ख्वाहिशें ऐसी की हर ख्वाहिश पे दम निकले
Boht nikle mere armaan, lekin fir bhi kam nikle
बहुत निकले मेरे अरमान , लेकिन फिर भी कम निकले

Mirza Ghalib

Famous Sher of Mirza Ghalib

Wo aai ghar mei hamare, Khuda ki kudrat hai
वो आये घर में हमारे , खुदा की कुदरत है
Kabhi hum unhe kbhi apne ghar ko dekhte hai
कभी हम उन्हें कभी अपने घर को देखते है

Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari : Yu hota toh kya hota

Hui muddat ke ghalib mar gaya, per yaad aati hai
हुई मुद्दत के ग़ालिब मर गया, पर याद आती है
Jo har ek baat pe kehna ki yun hota toh kya hota
जो हर एक बात पे कहना की यूं होता तो क्या होता

Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari on Ishq

Ishq per zor nahi, yeh toh wo aatish hai, Ghalib
इश्क़ पर जोर नहीं , यह तो वो आतिश है, ग़ालिब
Ke lagaye na lage aur bujhae na bujhe
के लगाये न लगे और बुझाए न बुझे

Mirza Ghalib

Ghalib : Ek umar asar hone tak.

Aah ko chahie ek umar asar hone tak
आह को चाहिए एक उम्र असर होने तक
kon jeeta hai teri julf ke sir hone tak
कौन जीता है तेरी जुलफ के सर होने तक

Mirza Ghalib

Ghalib : tagaful na karenge

Humne maana ki tagaful na karenge lekin
हमने माना की तग़ाफ़ुल न करेंगे लेकिन
Khaak hojayega hum tumhe khabar hone tak
खाक हो जायगे हम तुम्हे खबर होने तक

Mirza Ghalib

Galib Shayari

Aashiqui sabar talab aur tamannah betaab
आशिक़ी सब्र -तलब और तमना बेताब
Dil ka kya rang karu, khun ae jigar hone tak
दिल का क्या रंग करू, खून-ऐ-जिगर होने तक

Mirza Ghalib Shayari Images

Pages: 1 2 3 4 5