Akbar Allahabadi

AKBAR ALLAHABADI

Syed Akbar Hussain is the real name of Akbar Allahabadi He was born on 16 November 1846 in the town of Bara, eleven miles from Allahabad . He was an Indian Urdu poet in the genre of satire.

Some popular sher of Akbar Allahabadi

Mazhabi behas maine ki hi nahi
मज़हबी बहस मैंने की ही नहीं
Faaltu akal mujh mein thi hi nahi
फालतू अकल मुझ में थी ही नहीँ

AKBAR ALLAHABADI

ham aah bhi karte hain to ho jaate hain badnaam
हम आह भी करते हैं तो हो जाते हैं बदनाम
vo qatal bhi karte hain to charcha nahi hota
वो क़तल भी करते हैं तो चर्चा नहीँ होता

AKBAR ALLAHABADI

ishq nazuk mizaj hai behad
इश्क़ नाज़ुक मिज़ाज है बेहद
akal ka bojh utha nahi sakta
अकल का बोझ उठा नहीँ सकता

AKBAR ALAHABADI

haya se sar jhuka lena adah se muskura dena
हया से सर झुका लेना अदाह से मुस्कुरा देना
hasino ko bhi kitna sahi hai bijli gira dena
हसीनो को भी कितना सही है बिजली गिरा देना

AKBAR ALLAHABADI

paida hua vakil to shaitan ne kaha
पैदा हुआ वकील तो शैतान ने कहा
lo aaj ham bhi sahib-e-aulad ho gae
लो आज हम भी साहिब-इ-औलाद हो गए

AKBAR ALLAHABADI

duniya mein hoon duniya ka talabgar nahi hoon
दुनिया में हूँ दुनिया का तलबगार नहीँ हूँ
bazar se guzra hoon ḳharidar nahi hoon
बाजार से गुज़रा हूँ ख़रीदार नहीँ हूँ

AKBAR ALLAHABADI

dhamka ke bose loonga ruḳh-e-rashk-e-mah ka
धमका के बोसे लूँगा रुख-इ-रश्क-इ-माह का
chanda vasool hota hai sahab dabaav se
चंदा वसूल होता है साहब दबाव से

AKBAR ALAHABADI

coat aur patloon jab pehnaa to mister ban gaya
कोट और पतलून जब पहना तो मिस्टर बन गया
jab koī taqrir ki jalse men leader ban gaya
जब कोई तक़रीर की जैसे में लीडर बन गया

AKBAR ALAHABADI

hakiki aur majazi shayari mein farq ye paaya
हकीकी और मजाज़ी शायरी में फ़र्क़ ये पाया
ki vo jaame se bahar hai ye pajame se bahar hai
की वो जामे से बहार है ये पाजामे से बहार है

AKBAR ALLAHABADI

jo vaqt-e-ḳhatna main chiḳha
जो वक़्त-ऐ-खतना में चीका
toh naaai ne kaha hans kar
तोह नाई ने कहा हंस कर
musalmani mein taqat ḳhuun hi bahne se aati hai
मुसलमानी में ताक़त खून ही बहने से आती है

AKBAR ALAHABADI